बुधवार, 16 दिसंबर 2009

चुनाव - घोषणाएं - अफीम


अभी-अभी मध्य प्रदेश से लौटा हूँ। नगर निगम/नगर पालिका चुनावों की बेला थी। प्रत्याशी तो ठीक वैसे ही आ रहे थे जैसे किसी विरहिणी के परदेश में रह रहे सजन, भांति-भांति के सतरंगी सपनों की चुनरिया लेकर। पर इस बार मतदाता विरहिणी की तरह दिखाई नहीं दे रहे थे। लेकिन उन सतरंगी सपनों की चुनरिया के रंगों में डूब ज़रूर रहे थे।
हमारे देश में चुनावी प्रत्याशियों द्वारा की जाने वाली घोषणाएं भी एक शोध का विषय हो सकती हैं और उन घोषणाओं से यह भी पता लगाया जा सकता है कि कौन सी समस्या हमारे देश में कितनी प्राचीन है, उसके समाधान के लिए कितने वर्षों का राजनैतिक प्रयास है, और सबसे बड़ी बात यह कि हमारे देश कि सबसे प्रमुख समस्या क्या है ?

तो साहब सबसे बड़ी समस्या जो है वो है कि वोट कैसे प्राप्त किये जाएँ ?
अब वर्षों के अनुभव से इसका जो समाधान निकला है वो ये है कि किसी एक ही मुद्दे पर बात करके अधिक वोट नहीं पाए जा सकते, इसलिए अलग-अलग हिस्सों और वर्गों के लिए मुद्दे अलग-अलग होने चाहिए। कुछ कॉमन मुद्दों कि भी ज़रूरत होती है। जिन पर घोषणाएं करना ज़रूरी होता है, भले ही पूरा करना सामर्थ्य से बाहर हो। जैसे कि मेरे अपने शहर में हुआ। शहर को जिस तालाब से पीने का पानी मिलता है और जो गर्मियों में भी लबालब भरा रहता है, दिसंबर में उसका हाल ये है कि पूरी तरह सूख चूका है, पानी कि आपूर्ति के लिए तालाब में बोर किये गए परन्तु नतीजा सिफर, पानी नहीं निकला। और प्रत्याशी हैं कि घोषणा कर रहे हैं कि पानी की समस्या को पूरी तरह मिटा देंगे। भैया, ज़रा उन आंकड़ों को तो देख लो जो बताते हैं की भूमिगत जल-स्तर किस हद तक नीचे जा चूका है और क्या मौसम विभाग से दुश्मनी है जो बारिश को लेकर उसके पूर्वानुमान पर नज़र तक नहीं डालते ! तब खाली नलके ही लगाने से पानी आ जायेगा क्या ? और जो लोग कोपेनहेगेन में करोड़ों रुपये की आहुति का यज्ञ कर रहे हैं क्या वो ....... हैं। हाँ अगर इन प्रत्याशियों में से कोई भीम या अर्जुन हो तो बात दूसरी है कि पैर की ठोकर या तीर मारकर पाताल गंगा निकाल दे।
वैसे भीम-अर्जुन से याद आया कि हमारे देश में चमत्कारों/ देवी-देवताओं का भी महत्वपूर्ण दखल है। हर शुभ काम करने के पहले उन्हें याद करना बहुत ज़रूरी है वरना अगर नाराज़ हो गए तो बंटा-ढार हो जायेगा। और फिर जनसेवा से ज्यादा शुभ काम क्या होगा, ईश्वर को याद करना तो लाजिमी है (अगर नाराज़ हो गए तो वोट कट जायेंगे)। पर सिर्फ याद करने भर से क्या होगा, बाबुओं की तरह अगर उन्हें प्रसाद नहीं चढ़ाया तो फाइल आगे कैसे खिसकेगी। तो साहब एक ही शहर के एक ही मोहल्ले में दो अलग-अलग कोनों में ईश्वर की बोली लगायी गई। माफ़ कीजियेगा ईश्वर की नहीं - अल्लाह और भगवान की। (आखिर दो अलग-अलग समुदायों के वोट का मामला है)। तो साहब जो जितनी बड़ी बोली लगाएगा उसको उतना प्रसाद मिलेगा। और फिर कहते हैं न की अल्लाह मेहरबान तो गधा पहलवान। तो सारी समस्याएं ऊपरवाला ही हल करेगा। बारिश के बिना पानी, बिजली और रोटी तो भक्तवत्सल भगवन दे ही देंगे, भाड़ में जाएँ विज्ञानं का हल्ला मचाने वाले।

तो साहब, सुधार करते हुए कहता हूँ कि देश की सबसे बड़ी समस्या भूख, बेरोज़गारी, पानी, बिजली, स्वास्थ्य कतई नहीं हैं, ये तो साइड इफेक्ट्स हैं, सबसे बड़ी समस्या है कि लोगों को अफीम कैसे चटाई जाये और ऊपरवाले को खुश कैसे रखा जाए। आखिर संसार में उसकी मर्ज़ी के बिना पत्ता भी नहीं हिलता।

1 टिप्पणी:

  1. सारा विश्व चिंतित है सूखते पेड़, सूखती नदियों/ तालाबो और बदते हुए समुद्र से

    मगर मै चिंतित हूँ सूखते हुए विवेक, बदते हुए बौड़मपन से.

    उत्तर देंहटाएं

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.