बुधवार, 25 मई 2011

काम का मन नहीं है


आज काम करने का मन नहीं है
आज बस सोचना चाहता हूं
वही सब जो काम से जुड़ा है
मेरे या किसी के भी
जो किया जा चुका है
या फिर बाकी है जिसका किया जाना
लेकिन सोचना...

सोचना, काम नहीं होता
कोई नहीं मानता इसे काम
भले ही क्यों न होता हो यह
हर काम के पीछे की वजह
लेकिन सोचना सिर्फ सोचना होता है
काम नहीं होता

इसीलिए कहना पड़ रहा है मुझे
आज काम करने का मन नहीं है
आज बस सोचना चाहता हूं।

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह, रजनीश जी...बहुत खूब
    एक शेर याद आ रहा है-
    खूबसूरत हैं आंखें तेरी, रात में जागना छोड़ दे
    खुद-ब-खुद नींद आ जाएगी, तू मुझे सोचना छोड़ दे

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसीलिए कहना पड़ रहा है मुझे
    आज काम करने का मन नहीं है
    आज बस सोचना चाहता हूं।

    nice post
    http://shayaridays.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.